रविवार, दिसंबर 13, 2009

अघोरेश्वर भगवान राम जीः कीनाराम आश्रम से निष्कासन



बाबा कीनाराम स्थल में आपका निवास काल मात्र छह मास का ही था । इस अवधि में ही आपने अपने गुरु बाबा राजेश्वर राम जी से जो सीखना था सीख लिया । बाबा राजेश्वर राम जी क्रीं कुण्ड स्थल के महँथ थे और अघोर परम्परा के मान्य आचार्य होने के साथ साथ आपके गुरु भी थे । उनके सानिध्य में जहाँ आपके अन्य गुरु भाई अपनी साधना की धार पैना कर रहे थे, आप परम् गुरु तथा उस अज्ञात की कृपा से, और अपने जन्मना सिद्ध होने की वजह से दीक्षा सँस्कार के उपराँत कुछ ही दिनों में अवधूत पद पर प्रतिष्ठित हो गये थे । छह मास की अवधि पूरी होते न होते आश्रम के पदाधिकारियों ने आपको एक साधारण सा लाँछन लगाकर आश्रम से निष्कासित कर दिया । इस घटना से आपको बहुत दुःख हुआ । एक बार उक्त घटना का विवरण आपने अपने भक्तों को सुनाया था । विवरण आपके शब्दों में जस का तस यहाँ प्रस्तुत है ।

" मुझे दुर्निवार एवँ दुर्दान्त दुःख तब हुआ जब मैं कीनाराम स्थल से, वहाँ के अधिकारियों द्वारा गुड़ और मुड़ी की चोरी का लाँछन लगाकर निष्कासित किया गया । तत्पश्चात् चार शाम तक भूखा प्यासा रहने के बाद हरिश्चन्द्र घाट पर शव दाह सँस्कार के लिये अग्नि देने वाले डोम रखवार ने मेरी याचना पर मुझे दो दिनों की सूखी बाटी खाने को दिया । चार सँध्या उपवास करने और बाटी के दो दिनों की बासी होने के कारण उसे गले से नीचे उतारने में कष्ट महसूस हो रहा था । जब मैंने थोड़ा सा नमक माँगा तब उस डोम रखवार ने बहुत ही डाँट फटकार की और बाहर निकल जाने का आदेश दिया । तदुपराँत घाट के बाहर आकर मैने परचून के सामान के एक विक्रेता से नमक माँगा । उसने भी झुझलाकर एक कौड़ी के बराबर नमक का एक रोड़ा दिया । यह बात उस समय की है, जब पिसे हुए नमक की आमद बहुत ही कम होती थी और अधिकतर रोड़े के नमक की ही बिक्री होती थी । उस लिट्टी का एक टुकड़ा दाँत से काटकर तब नमक चाटकर मैं किसी तरह उसे निगल सका था । उसके बाद कुछ समय तक मुझे तन ढ़ँकने के लिये प्रायः वस्त्र उपलब्ध नहीं हो पाता था । बुभुक्षा शाँत करने के निमित्त अन्न तक दुर्लभ रहता था और दुर्दमनीय वेदना झेलनी पड़ती थी ।"

आश्रम से निष्कासित होकर आप छेदी मास्टर के यहाँ पहुँचे । श्री छेदी मास्टर जी उस दिन की घटना कुछ इस तरह बतलाये थे ।

" उस दिन बाबा उनका दरवाजा खटखटाये । वे जब बाहर निकले तो देखा कि बाबा के आँसू गिर रहे थे । मास्टर साहब के बहुत पूछने पर बतलाये कि " गुरुचरण छूटल जात ह़ऽ । गुरु जी कहलन हैं कि भाग जाओ यहाँ से । तब बाबा सकलडीहा, हरिहरपुर में रहने लगे ।"

इतने कम समय में आश्रम से निकाल दिया जाना आश्चर्य का विषय है । कहा तो बहुत कुछ जाता है , परन्तु यह सत्य है कि आपकी प्रतिभा से अधिक दिन तक लोग अनजान नहीं रहे थे । आश्रम आने वाले श्रद्धालु गुरु बाबा राजेश्वर राम जी को कम और शिष्य औघड़ भगवान राम जी को अधिक दण्डप्रणाम करने लगे थे । आपका भजन गाना, और हारमोनियम, तबला आदि बजाना भी गुरु जी को पसन्द नही् आ रहा था । इसी समय भंडार घर की ताली खोने की घटना घट गयी । पहले तो बहुत प्रकार से प्रताड़ित किया गया, फिर आपको आश्रम से निकाल दिया गया ।

कुछ दिन तो आप श्री गँगा जी के हरिश्चन्द्र घाट तथा आसपास भटकते रहे । ऐसे ही भटकते हुए आप एक दिन ईश्वरगँगी के निकट व्यायाम शाला जा पहुँचे । वहीं आपका सम्पर्क अपने समय के प्रसिद्ध अघोराचार्य संत कच्चा बाबा की शिष्य परम्परा के अवधूत छेदी बाबा से हुआ । छेदी बाबा से आपकी भेंट कीनाराम आश्रम में पहले भी हो चुकी थी । आपने वहीं पास के चबूतरे पर अपना आसन जमाया और कुछ काल तक छेदी बाबा की देखरेख में साधना करते रहे । उस समय आपकी दिनचर्या में ध्यान जप के अलावा दोपहर के समय भिक्षाटन मात्र था । भिक्षा माँगते समय " माँ रोटी दो" का आवाज लगाते हुए चलते जाते थे । माताएँ इस किशोर अवधूत को भिक्षा देने के लिये तत्पर रहतीं थीं, क्योंकि आप किसी के दरवाजे रुकते नहीं थे । आपके पीछे पीछे कुत्तों का झुँण्ड भी चलता । भिक्षा में जो मिलता कुछ खुद खाते बाकी कुत्तों को खिलाते चलते थे । आपकी यह लीला अघोर परम्परा के अन्यतम आचार्य भगवान दत्तात्रेय की याद दिला देती थी । इस किशोर अवधूत को गुरु ने आश्रम से क्यों निकाल दिया यह एक रहस्य बन कर रह गया ।

क्रमशः

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपने जो कुछ भी िलखा है वो बहुत ‍जानकारी से भरा हुआ है. वैसे बहुत से लोग इस के बारे में नहीं जानते होंगे.

    उत्तर देंहटाएं